स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध Swachh Bharat Abhiyan

भारत सरकार द्वारा 2 Oct. 2014 में स्वच्छ भारत अभियान (Swachh Bharat Abhiyan) का आरंभ किया गया। प्रधानमंत्री जी द्वारा देश का सबसे बड़ा स्वच्छता अभियान है। आइए इस महत्वपूर्ण अभियान के बारे में जानते है तथा इसका उदेश्य एवं इसके प्रभावों के बारे में जानकारियों कॉ निबंध के माध्यम से साझा करते है।

Swachh Bharat Abhiyan Nibandh

रूपरेखा :-

  1. प्रस्तावना
  2. स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य
  3. वर्तमान में स्वच्छता को लेकर भारत स्थिति
  4. स्वच्छता का महत्व
  5. उपसंहार

प्रस्तावना :- स्वच्छता स्वास्थ्य कइ जननी है। मानव जीवन अनमोल है तथा सुखद जीवन जीने के लिए हमारे शरीर का स्वस्थ रहना अति आवश्यक है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए वातावरण का स्वस्थ होना बेहद जरूरी है इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में गाँधी जी की 145 वीं जयंती (2 अक्टूबर) को “भारत स्वच्छ मिशन” के नाम से एक देशव्यापी अभियान की शुरुआत की है।

उद्देश्य – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गाँधी जी की जयंती पर अपने ड्रीम प्रोजेक्ट “स्वच्छ भारत मिशन” कइ शुरुआत की। ‘स्वच्छ भारत मिशन या क्लीन इंडिया कैंपेन’ देश का सबसे बड़ा स्वच्छता अभियान है। इस मिशन का मुख्य उद्देश्य अगले पाँच साल में स्वच्छ भारत का लक्ष्य प्राप्त करना है। ताकि महात्मा गाँधी की 150 वीं जयंती को इसकी प्राप्ति के रूप में मनाया जा सके। इस अभियान के तहत सफाई करने कइ दिशा में प्रतिवर्ष 100 घंटे के श्रम दान के लिए लोग कॉ प्रेरित क्या गया है।

स्वच्छ भारत अभियान के लिए शहरी क्षेत्र में हर घर में शौचालय बनाने, सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालय बनाने, ठोस, कचरे का उचित प्रबंध करने और 4041 वैधानिक कस्बों के 1.04 करोड़ घरों को इसमें शामिल करने का लक्ष्य है। इसमें सार्वजनिक शौचालयों की दो लाख सीटें, सामुदायिक शौचालय की दो लाख से ज्यादा सीट मुहैया कराने और हर कस्बे में ठोस कचरे का उचित प्रबंध करना शामिल है। वह कुछ क्षेत्र जिनमें घरेलू शौचालय बनाने में समस्या है। वहाँ सामुदायिक शौचालय बनाए जाएंगे। सार्वजनिक स्थान जैसे- बाजार, बस अड्डे, रेलवे स्टेशन, पर्यटन स्थल आदि पर सार्वजनिक शौचालय कइ सुबिधा दी जाएगी। शहरी विकास मंत्रालय ने इस मिशन के लिए 62000 करोड़ रुपये आवंटित किए है।

  • ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में वैश्विक जागरूकता लाने के लिए एवं सामान्य लोगों को स्वास्थ्य से जोड़ने के लिए
  • भारत को स्वच्छ एवं हरियाली युक्त बनाना
  • जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना।
  • सार्वजनिक स्थानों को निरंतर साफ-सफाई के जागरूक करना
  • खुले में शौच से मुक्त देश का निर्माण करना।
  • कूड़ा कचरा आदि के लिए कूड़ेदान आदि का प्रयोग करना  

वर्तमान में भारत की स्थिति- स्वच्छता को लेकर भारत की स्थिति बेहद संवेदनशील है। इसलिए केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री की गंदगी मुक्त भारत की संकल्पना अच्छी है तथा उनके द्वारा इस क्षेत्र में किए गए शुरुआती प्रयास भी सराहनीय है। भारत को पूरी तरह स्वच्छ बनाने के लिए खुले में शौच एक मुख्य मुक्त बनाना है। इसलिए इस अभियान में सार्वजनिक एवं सामुदायिक शौचालय बनाने पर अधिक महत्व दिया गया है।

स्वच्छता का महत्व – स्वच्छता हमारी नैतिक जिम्मेदारी है और वर्तमान में यह हमारी सबसे बड़ी आवश्यकता भी है। गंदगी के कारण बहुत सी जानलेवा बीमारियाँ वातावरण में फैलती है। इन बीमारियों से बचने के लिए प्रतिदिन अपने शरीर, आसपास के क्षेत्रों, स्कूलों, दफ्तरों घरों, आदि की सफाई करना ही एक सबसे अच्छा उपाय है।

उपसंहार :- हमारे स्वस्थ एवं उज्ज्वल भविष्य के लिए स्वच्छ वातावरण का होना बेहद जरूरी है इसलिए दैनिक जीवन में सफाई कॉ एक आंदोलन कइ तरह शामिल करने की जरूरत है साथ ही हमें इसे एक बड़े स्तर पर भी देखने की जरूरत है ताकि हमारा पर्यावरण स्वच्छ रहे। इसलिए भारत सरकार द्वारा इस तरह के अभियान की शरुआत बेहद प्रशंसनीय है। इस अभियान द्वारा प्रतिएक नागरिक को स्वच्छता का महत्व समझना एवं इसके लिए उन्हे जागरूक करना है। देश का नागरिक होने के नाते हमसब का कर्तव्य बनता है की हम न तो गंदगी फैलाएंगे और न ही किसी को फैलाने देंगे। अपने बच्चों को साफ सफाई के महत्व के बारे में बताएंगे।  

वर्तमान में लोग इस ओर स्वतः प्रेरित है। प्रत्येक नागरिक को स्वच्छता की ओर अपना योगदान देना होगा जिससे कुछ वर्षों बाद भारत पूर्णरूप से स्वस्थ देशों कइ गिनती में गिना जाने लगे। एक कदम स्वच्छता की और का यह पवित्र विचार हमें इस दिशा में आगे बढ़ने की प्रेरणा देगा।

“देश तभी साफ होगा, जब स्वच्छता में सबका हाथ होगा”

Swachh Bharat Abhiyan in Hindi PDF

इन्हे भी देखे –

Swachh Bharat Abhiyan
Swachh Bharat Abhiyan

Leave a Comment